पीएम किसान सम्मान निधि योजना: अपना बैलेंस और लाभार्थी की स्थिति की जाँच करें|PM Kisan Balance Check

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now

PM Kisan Balance Check

PM Kisan Balance Check प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम-किसान) योजना भारत सरकार द्वारा देश भर के पात्र किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए शुरू की गई एक लाभकारी योजना है। इस कार्यक्रम के तहत, पंजीकृत छोटे और सीमांत किसानों को ₹2,000 की तीन समान किस्तों में प्रति वर्ष ₹6,000 की आय सहायता मिलती है।

अपना पीएम किसान बैलेंस कैसे चेक करें

हालाँकि पीएम-किसान पोर्टल सीधे आपके खाते की शेष राशि प्रदर्शित नहीं करता है, लेकिन आप प्रभावी रूप से अपने लाभार्थी की स्थिति की जाँच कर सकते हैं और किस्त वितरण अनुसूची के आधार पर अपनी शेष राशि का अनुमान लगा सकते हैं। यहाँ एक चरण-दर-चरण मार्गदर्शिका दी गई है:

आधिकारिक पीएम-किसान पोर्टल पर जाएँ: https://pmkisan.gov.in/ पर पीएम-किसान सम्मान निधि योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएँ।

किसान कॉर्नर’ अनुभाग का पता लगाएँ: होमपेज पर नीचे स्क्रॉल करें जब तक कि आपको “किसान कॉर्नर” नामक अनुभाग न मिल जाए।

‘लाभार्थी स्थिति’ पर क्लिक करें:किसान कॉर्नर” के भीतर, “लाभार्थी स्थिति” नामक बटन को ढूँढें और क्लिक करें।

अपना आधार नंबर या खाता संख्या दर्ज करें: लाभार्थी स्थिति पृष्ठ पर, आपको अपना आधार नंबर या अपने पीएम-किसान पंजीकरण से जुड़ा अपना बैंक खाता नंबर दर्ज करने के लिए कहा जाएगा।

‘विवरण प्राप्त करें’ पर क्लिक करें: एक बार जब आप अपना चुना हुआ पहचानकर्ता दर्ज कर लेते हैं, तो “विवरण प्राप्त करें” नामक बटन पर क्लिक करें।

अपना लाभार्थी स्टेटस देखें: पोर्टल आपकी लाभार्थी जानकारी प्रदर्शित करेगा, जिसमें आपका नाम, पंजीकरण तिथि और सबसे महत्वपूर्ण, किस्त हस्तांतरण स्थिति शामिल है। यह जानकारी बताएगी कि आपको नवीनतम किस्त मिली है या यह अभी भी लंबित है।

लाभार्थी स्थिति पृष्ठ पर दी गई जानकारी को समझना

लाभार्थी स्थिति पृष्ठ आपके पीएम-किसान पंजीकरण के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करता है। यहाँ आपको मिलने वाली मुख्य जानकारी का विवरण दिया गया है:

किसान का नाम: यह अनुभाग आपके पीएम-किसान आवेदन के अनुसार आपका पंजीकृत नाम प्रदर्शित करता है।

पंजीकरण तिथि: यह उस तिथि को इंगित करता है जब आपने पीएम-किसान योजना के लिए सफलतापूर्वक पंजीकरण किया था।

किस्त विवरण: यह महत्वपूर्ण अनुभाग आपको प्राप्त हुई किस्तों के बारे में जानकारी प्रदान करता है। इसे प्रत्येक किस्त अवधि के लिए “भुगतान किया गया” या “लंबित” के रूप में सूचीबद्ध किया जा सकता है। इन विवरणों का विश्लेषण करके, आप अवैतनिक किस्तों की संख्या (₹2,000 से गुणा) के आधार पर अपने वर्तमान शेष का अनुमान लगा सकते हैं।

ई-केवाईसी अनिवार्य है: लाभ की निरंतर प्राप्ति के लिए पीएम-किसान पोर्टल पर ई-केवाईसी (इलेक्ट्रॉनिक नो योर कस्टमर) प्रक्रिया को पूरा करना आवश्यक है। आप अपने आधार से जुड़े मोबाइल नंबर पर प्राप्त वन-टाइम पासवर्ड (ओटीपी) का उपयोग करके ई-केवाईसी पूरा कर सकते हैं।

वैकल्पिक रूप से, आप बायोमेट्रिक ई-केवाईसी सत्यापन के लिए अपने निकटतम सीएससी (कॉमन सर्विस सेंटर) पर जा सकते हैं। समय पर अपडेट: लाभार्थी स्थिति पृष्ठ पर नवीनतम अपडेट तुरंत दिखाई नहीं दे सकते हैं। नवीनतम संवितरण को दर्शाने वाली स्थिति में थोड़ी देरी हो सकती है।

पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न: पीएम-किसान की किस्तें कितनी बार वितरित की जाती हैं?

उत्तर: पीएम-किसान की किस्तें आम तौर पर साल में तीन बार, अप्रैल-मई, अगस्त-सितंबर और दिसंबर-जनवरी में जारी की जाती हैं।

प्रश्न: क्या मैं मोबाइल ऐप के ज़रिए अपना पीएम-किसान बैलेंस चेक कर सकता हूँ?

उत्तर: वर्तमान में, बैलेंस पूछताछ के लिए कोई आधिकारिक पीएम-किसान मोबाइल ऐप नहीं है। हालाँकि, आप मोबाइल वेब ब्राउज़र का उपयोग करके लाभार्थी स्थिति पृष्ठ तक पहुँच सकते हैं।

प्रश्न: अगर मुझे पीएम-किसान की किस्त नहीं मिली है तो क्या होगा?

उत्तर: अगर आपको ई-केवाईसी पूरा करने के बाद भी पंजीकृत लाभार्थी होने के बावजूद किस्त नहीं मिली है, तो आप सहायता के लिए पीएम-किसान हेल्पलाइन 011-24300600 या अपने निकटतम कृषि विभाग कार्यालय से संपर्क कर सकते हैं।

अंतिम शब्द

PM Kisan Balance Check  इन चरणों का पालन करके और लाभार्थी स्थिति पृष्ठ पर दी गई जानकारी को समझकर, आप प्रभावी रूप से अपने पीएम-किसान लाभार्थी की स्थिति की जांच कर सकते हैं और अपने वर्तमान शेष राशि का अनुमान लगा सकते हैं। याद रखें, पीएम-किसान लाभ की निरंतर प्राप्ति के लिए समय पर ई-केवाईसी महत्वपूर्ण है। यदि आपको कोई समस्या आती है, तो सहायता के लिए हेल्पलाइन या अपने स्थानीय कृषि विभाग से संपर्क करने में संकोच न करें।

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment